मंगलवार, 31 मार्च 2020

Microfinance institutions kya hai? यह ग्रामीणों को कैसे प्रभावित कर रहा है

MFI क्या है? 

Microfinance institutions kya hai?

 बड़े-बड़े बैंक की स्थापना होने के बाद भी जब रीजनल रूरल बैंक  की स्थापना की गई फिर भी ग्रामीणों को यह लाभ नहीं पहुंचा पा रही थी

 गांव की गरीब और वंचित लोगों को महा जनों से ऋण अधिक ब्याज दर पर लेना पड़ता था

 यह सब देखते हुए सूक्ष्म  वित्तीय संस्थाओं का गठन किया गया.
   सूक्ष्म वित्तीय संस्थाएं बड़े बड़े बैंकों से कम ब्याज दर पर ऋण लेकर ग्रामीणों को कम ब्याज दर पर ऋण प्रदान  करते है.
ग्रामीण इस ऋण की अदायगी सप्ताह या महीनो में करते है

सूक्ष्म वित्तीय संस्थाएं सिर्फ ऋण दे सकती है.

इस प्रकार  सूक्ष्म वित्तीय संस्थाएं ग्रामीण  क्षेत्र की NBFC है

इस प्रकार RBI द्वारा निर्धारित सर्त जैसे Rbi ने सभी वाणिज्यिक बैंको पर चाहे वो देशी हो या विदेशी को अपने ऋण का 40 % ऋण प्राथमिक क्षेत्र देयता में देने के लिए निर्धारित किया है.

 चुकी MFI ग्रामीण क्षेत्र के वंचित और गरीब लोगो को ऋण देता है.  जो स्वरोजगार स्थापित करना चाहते है. इसलिय MFI प्राथमिक क्षेत्र देयता के अंतर्गत आता है.

इसलिए ज़ब वाणिज्यिक बैंक MFI को कम ब्याज दर पर ऋण देती है तो इससे RBI का मानक भी पूरा हो जाता है

माइक्रोफाइनेंस संस्थान की कार्यप्रणाली?

Micro Finance, इसके तहत दी जानेवाली रकम भले ही छोटी होती है किन्तु ये भी सत्य है कि इसके जरिये ही कामयाबी की राह खोजी गयी.

बड़े – बड़े कर्जदार जैसे बड़े बैंकों के लिए सरदर्द बने हुए हैं वहीँ दूसरी ओर Micro Finance कम्पनियाँ प्रत्येक वर्ष कारोबार में वृद्धि कर रही है

. ये कोई चिटफण्ड कंपनी नहीं है जो लोगों का पैसा लेकर भाग जाएगी क्योंकि MFI सिर्फ कर्ज दे सकती है लोगों का पैसा जमा नहीं कर सकती है.

Micro Finance कम्पनियों की कार्यप्रणाली पारम्परिक बैंकिंग प्रणाली से भिन्न है.

 इस क्षेत्र में सम्बंधित वित्तीय संस्थानों द्वारा एक अधिकारी को नियुक्त किया जाता है. यह नियुक्त किया गया अधिकारी लोगों के समूह के संपर्क में रहता है और आवेदक की आवश्यकताओं को समझते हुए उसी आधार पर अंतिम राशि तय करता है.

 ऋण लेनेवालों को भी माइक्रोफाइनेंस संस्थानों द्वारा निर्धारित की गयी कुछ नियमों का पालन करना पड़ता है.

वास्तव में माइक्रोफाइनेंस संस्थान उन लोगों के लिए उपयोगी है जिन लोगों की पहुँच बैंकों तक नहीं है.

 इसके जरिये कम आय वाले लोग अपने पैरों पर खड़े होते है. माइक्रोफाइनेंस संस्थानों का काम केवल ऋण देना नहीं होता है बल्कि उधारकर्ता का साथ तब तक नहीं छोड़ते हैं

 जब तक वे स्वयं अपना कारोबार चलाने के लिए सक्षम नहीं हो जाते हैं. यही एक विशेष कारण है कि हमारे देश में MFI कंपनियों की सफलता दर अधिक है.

Silent features of MFI

गरीब और वंचित लोगों को जो आर्थिक रूप से पिछड़े हुए होते हैं उन्हें  ऋण  प्रदान करते हैं

एम एफ आई एक प्रकार का एनबीएफसी है
यह मुख्यतः महिलाओं को ऋण प्रदान करता है

आर्थिक रूप से पिछड़े हुए लोगों को ऋण प्रदान करता है तथा उन्हें प्रशिक्षित भी करता है जिसे वे छोटी-छोटी रोजगार कर सके

इसके द्वारा दिए यह ऋण  की भुगतान सप्ताह या महीनों में किया जाता है

एमएफआई द्वारा प्रदान किए गए माइक्रो लोन की पुनर्भुगतान आवृत्ति अधिक है और उधारकर्ता को त्वरित अंतराल पर राशि चुकाने की जरूरत है।

ज्यादातर मामलों में, इन संगठनों द्वारा आय-पीढ़ी के उद्देश्यों के लिए ऋण प्रदान किए जाते हैं।


कैसे एमएफआई उधारकर्ताओं को ऋण देते हैं [How MFIs Give Loan to the Borrowers in hindi]


समाज के गरीब वर्गों को सूक्ष्म वित्तीय सहायता देना एक बहुत जटिल मामला है।

 लेकिन मिक्रोफिनांस संगठन इस कार्य को पूर्णता के साथ करते हैं।

 प्रशासनिक अधिकारी को जगह पर जाना, उधारकर्ताओं से मुलाकात करना और उनके कौशल का विश्लेषण करना है।

इस पूरी प्रक्रिया में समय, ऊर्जा और जनशक्ति होती है।

ज्यादातर समय वित्तीय संस्थान उन्हें कुशल श्रम में विकसित करने के लिए सभी आवश्यक प्रशिक्षण की व्यवस्था करते हैं।

ऋण देने से पहले एमएफआई द्वारा विचार किए जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण क्षेत्रों में निम्नानुसार हैं:

ऋण अवधि- कभी-कभी उधारकर्ताओं को समय की छोटी अवधि के लिए ऋण दिया जाता है जो कुछ महीनों से 1 वर्ष तक हो सकता है। ऋण की चुकौती मासिक, साप्ताहिक या दैनिक आधार पर की जाती है।

जोखिम कारक- क्षेत्रीय अधिकारी को ऋण मंजूर करने से पहले आवेदकों की पुनर्भुगतान क्षमता का विस्तृत विश्लेषण करना पड़ता है।

पुनर्भुगतान क्षमता का आकलन विभिन्न मानदंडों के आधार पर किया जाता है और यह कार्य अधिकारी द्वारा आयोजित किया जाता है।

शिक्षा- क्षेत्रीय अधिकारी भी सफल व्यवसाय शिक्षा चलाने के लिए उधारकर्ता के शिक्षा स्तर की जांच करता है, एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

विशिष्ट कौशल- उधारकर्ता को व्यवसाय का पूरा या न्यूनतम ज्ञान होना चाहिए। एमएफआई उम्मीद करता है कि उधारकर्ता को उस व्यवसाय के बारे में पर्याप्त जानकारी हो जो वह आगे बढ़ने जा रही है।

समझौता- उधारकर्ता और ऋण प्रदान करने वाली संस्था के बीच एक समझौता होगा। समझौते में पुनर्भुगतान प्रक्रिया और धन आवंटन शामिल होगा। दोनों पार्टियों को सहमत होना है और फिर धनराशि का अंतिम आवंटन होगा।

भारत में एमएफआई के प्रकार क्या हैं [What are the Types of MFIs in India in hindi]


जेएलजी या संयुक्त देयता समूह
एसएचजी या सेल्फ हेल्प ग्रुप
ग्रामीण बैंक मॉडल
ग्रामीण सहकारी समिति



भारत में प्रमुख एमएफआई कौन सा हैं [Which are the Prominent MFIs in India in hindi]

भारत के कुछ प्रमुख वित्तीय संस्थान निम्नलिखित हैं जो समाज के आर्थिक रूप से वंचित वर्ग को वित्तीय सहायता दे रहे हैं:
भारत वित्तीय समावेशन लिमिटेड
स्पंदना स्पोर्टी फाइनेंशियल लिमिटेड
माइक्रोफिन लिमिटेड साझा करें
Asmitha Microfin लिमिटेड
श्री क्षेत्र धर्मस्थल ग्रामीण विकास परियोजना
भारतीय समृद्धि फाइनेंस लिमिटेड (बीएसएफएल)
बंधन फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड
कैशपोरो माइक्रो क्रेडिट (सीएमसी)
ग्रामा विद्यालय माइक्रो फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड (जीवीएमएफएल)
ग्रामीण कुट्टा फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड (जीएफएसपीएल)
उत्कर्ष माइक्रो फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड
उज्जिवन फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड
स्वधा फिनसर्व प्राइवेट लिमिटेड
अन्नपूर्णा माइक्रोफाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड
अरोहान फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड
असिवाड माइक्रोफाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड
बीएसएस माइक्रोफाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड
दीशा माइक्रोफिन प्राइवेट लिमिटेड
इक्विटास माइक्रोफाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड
ईएसएफ़ माइक्रोफाइनेंस एंड इंवेस्टमेंट प्राइवेट लिमिटेड
फ्यूजन माइक्रोफाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड
जनलक्ष्मी फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड
मदुरा माइक्रो फाइनेंस लिमिटेड
आरजीवीएन (उत्तर पूर्व) माइक्रोफाइनेंस लिमिटेड
साटन क्रेडिटकेयर नेटवर्क लिमिटेड
एसएमआईएलई माइक्रोफाइनेंस लिमिटेड
सोनाटा फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड
एसवी क्रेडिटलाइन प्राइवेट लिमिटेड
स्वधा फिनसर्व प्राइवेट लिमिटेड
सूर्योदय माइक्रो फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड
अधिकारी माइक्रोफाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड
महासाम ट्रस्ट
मार्गदारशक फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड
पहल फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड
राष्ट्रीय सेवा समिति
राष्ट्रीय ग्रामीण विकास निधि
सहारा उत्तरागा कल्याण सोसायटी
सहयोग माइक्रोफाइनेंस लिमिटेड
साईं फाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड
संहिता सामुदायिक विकास सेवाएं
संघमित्र ग्रामीण वित्तीय सेवाएं
सरला महिला कल्याण सोसायटी
शिखर माइक्रोफाइनेंस प्राइवेट लिमिटेड
उत्तरायन फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड
वेदिका क्रेडिट कैपिटल लिमिटेड
ग्राम फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड
वाईवीयू फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड
हाथ में हाथ (HIH)
आरओआरईएस माइक्रो उद्यमी विकास ट्रस्ट (आरएमईडीटी)

एमएफआई की सफलता दर क्या है [What is the Success Rate of MFI in hindi]

भारत वर्तमान में दुनिया के अग्रणी देशों में से एक है जो सफलतापूर्वक बहुत से मिक्रोफिनांस इंस्टीटूशन चला रहा है।

 सभी सरकारी और गैर-सरकारी संगठन वंचित अनुभाग के जीवन को ऊपर उठाने के लिए विभिन्न परियोजनाएं चला रहे हैं और सफलता दर काफी अधिक है।

 इन संस्थानों का काम केवल ऋण प्रदान करने के साथ खत्म नहीं होता है।

वे उधारकर्ता से भी चिपके रहते हैं जब तक कि वे अपने कारोबार को अपने आप चलाने में सक्षम न हों।

नतीजतन, जोखिम कारक नीचे आता है और पुनर्भुगतान की संभावना निश्चित रूप से उच्च हो जाती है।

इसलिए, यह रिकॉर्ड है कि भारत में एमएफआई की सफलता दर बहुत अधिक है और ये संस्थान हर गुजरने वाले दिन के साथ बढ़ रहे हैं।

भारत में एमएफआई जितना अधिक सफल होगा, देश में गरीब वर्ग की सुधार दर अधिक होगी।

Microfinance : अंत में हमारा निष्कर्ष

एक ओर जहाँ Microfinance कम्पनियाँ वित्तीय सेवाएं प्रदान करने का कार्य कर रही है

 वहीँ दूसरी ओर गरीब और वंचित वर्ग की मदद करके देश की अर्थव्यवस्था में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने का कार्य भी कर रही है.

साथ ही साथ ये कम्पनियाँ लोगों को धन का समुचित उपयोग करने के बारे में भी शिक्षित कर रही है.

माइक्रोक्रेडिट माइक्रोफाइनेंस के लिए एक और शब्द है जिसका प्रयोग भी लोगों के द्वारा किया जाता है.

हम सभी जानते हैं कि कम आय वाले वंचित लोगों को आसानी से अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने का अवसर प्राप्त नहीं होता है.

ऐसे लोग बैंक ऋण के लिए भी योग्य नहीं होते हैं. ऐसे लोग ही Microfinance कंपनियों से वित्तीय सहायता प्राप्त करते हैं.
आपकी राय हमारे मार्गदर्शन के लिए आवश्यक है. आपको आज का लेख Microfinance kya hai? कैसा लगा हमें comment करके सूचित जरुर करें. यदि पसंद आई हो तो दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें.

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें

Thanks for comments