रविवार, 9 फ़रवरी 2020

The hindu and pib analysis in hindi 9 february 2020


The hindu and pib analysis in hindi 9 february 2020


व्यापार की दीवारों को बढ़ाने की उच्च लागत

 संदर्भ

भारत का अंतरराष्ट्रीय व्यापार को लेकर संरक्षणवाद रुख

 सारांश

आर्थिक रूप से परस्पर जुड़ी और तकनीकी रूप से अनुच्छेद दुनिया में भारत को व्यापार पर एक खुला दिमाग रखने की आवश्यकता है

 मुख्य तथ्य:

1 फरवरी बजट में निहित
तीन से चार फरवरी आसियान के नेतृत्व वाले आरसीसीपी व्यापार समझौते पर चर्चा में भारत का भाग लेने से इनकार

IQIP


GS-2

 दीपक्षी क्षेत्रीय और वैश्विक समूह और भारत से संबंधित और अथवा भारत के हितों को प्रभावित करने वाले करार.

 GS-3

 उदारीकरण का अर्थव्यवस्था पर प्रभाव

GS-4

 अंतर्राष्ट्रीय नैतिकता

 बजट कैसे

FTAPTA को कई संदर्भों में समस्या बताया

परिणाम  50 से अधिक वस्तुओं के आयात पर शुल्क बढ़ाया, सीमा शुल्क अधिनियम के नियमों में परिवर्तन किया

* वित्त मंत्री


यह देखा गया है कि FTA के तहत आयात बढ़ रहा है
जिसने घरेलू उद्योग के लिए खतरा उत्पन्न कर दिया है
इस तरह के आयात के लिए कणे चेक  की आवश्यकता होती है

* लेखक


उद्देश्य भारतीय बाजारों को डोपिंग से बचाना हो सकता है मुख्य रूप से चीनी सामानों द्वारा


 व्यापार घाटे में वृद्धि


नवंबर 2019 RCEP वार्ता 16 देशों में
बाहर तर्क= व्यापार घाटे में वृद्धि
*आसियान (FTA)
*जापान (CEPA )
*दक्षिण कोरिया (CEPA)

 सभी समझौतों की समीक्षा

 ऐसा करना मुश्किल लेकिन कहना आसान यदि  भारत आरसीपी विराम लगाता है

तो दीपक्षी व्यापार समझौते पर बातचीत करना अन्य देशों के प्राथमिकता नहीं होगी.

 अंतिम बात

RCEP  के दरवाजे बंद
सार्क  को छोड़ दिया गया
भारत किसी भी क्षेत्रीय FTA का हिस्सा नहीं है

FOR PRELIMS

*FTA-PTA
*ASEAN &RCEP
*NAFTA
*MERCOSUR
*EUE
*AFCFTA
*GCC


 सजा प्रक्रिया की निष्पक्षता को उजागर करना


 संदर्भ:

निर्भया बलात्कार आरोपियों को अपनी सभी कानूनी अधिकारों का प्रयोग करने के लिए दिया गया 7 दिन का समय

 सारांश

न्यायिक प्रक्रिया निष्पक्ष क्षमता की मांग करती है जो सजा की पर्याप्त आवश्यकता ओं के कारण होती हैं

 प्रमुख तथ्य:

 निष्पक्ष परीक्षन अधिकार


* public sentiment vs judicial process
“society cry for justice “

 एक महत्वपूर्ण मामला और रूपरेखा

 पहला:

सबसे पहले साल 1973 की जगमोहन बनाम स्टेट ऑफ पंजाब का हवाला दिया गया
इसमें सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की बेंच ने सुनवाई की

केस में फांसी की सजा की संवैधानिक वैधता पर सवाल उठाए गए थे जिसमें बेंच ने इसे क्लियर कर वैध बताया था

दूसरा:

1980 में बच्चन सिंह बनाम स्टेट ऑफ पंजाब किस का हवाला दिया गया
इस केस में भी सुप्रीम कोर्ट के 5 जजों की बेंच ने फांसी की संविधान की वैधता पर उठे सवाल के बाद सजा को वैध ठहराया था
इसी केस में कोर्ट ने रेयरेस्ट ऑफ रेयर केशो का जिक्र किया था जिसमें फांसी की सजा दी जाएगी

 तीसरा:

1983 में मच्छी सिंह बनाम स्टेट ऑफ पंजाब मामले का
इस केस में रेयरेस्ट ऑफ रेयर के तहत आने वाले अपराध तय करने में 5 बिंदु का जिक्र किया गया था
यह थे-
* मैनर ऑफ़  कमीशन ऑफ क्राइम यानी अपराध का तरीका
* मोटिव ऑफ क्राइम यानि  अपराध का मकसद
* सोशल एवोरेस  ऑफ़ क्राइम यानी अपराध से समाज पर क्या प्रभाव पड़ा
* मैग्रीटुड ऑफ क्राइम यानी अपराध की भयावहता
 पर्सनैलिटी ऑफ विक्टिम यानी पीड़ित  का व्यक्तित्व

 चौथा:

1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के केस का  भी सरकारी  वकील ने हवाला दिया

उन्होंने कहा कि सुरक्षाकर्मी बयंत सिंह व सतवंत सिंह ने हत्याकांड किया था

बयंत  सिंह को अन्य सुरक्षाकर्मियों ने वही मार गिराया था, जबकि सतवंत सिंह को साल 1988 में सुप्रीम कोर्ट ने फांसी दी
“ क्या आजीवन कारावास का वैकल्पिक विकल्प निर्विवाद रूप से दिया गया है”

 आजीवन करावास का मुद्दा

सामूहिक विवेक
अपराधिक न्याय प्रणाली में जनता का विश्वास

 ट्रंप आगे बढ़ते हैं

 संदर्भ:

 ट्रम का सीनेट में महाभियोग की आरोपों से बरी होना

 सारांश:

 आरोपों की गंभीरता के बावजूद अमेरिकी राष्ट्रपति वरी होने के बाद मजबूत

 आरोप क्या था?

महाभियोग की प्रक्रिया कब शुरू की गई जब एक अनजान आदमी विसलब्लोअर ने सितंबर में संसद से शिकायत की थी कि जुलाई में राष्ट्रपति ट्रंप ने यूक्रेन के राष्ट्रपति को फोन किया था

ट्रम पर आरोप है कि उस फोन काल में उन्होंने यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर  से कहा था कि अगर वह अमेरिका से सैन्य मदद चाहते हैं तो यूक्रेन को कुछ जांच शुरू करनी होगी जिससे ट्रम्प  को राजनीतिक लाभ होगा

फोन पर हुई इस बातचीत में राष्ट्रपति ट्रंप ने यूक्रेन के राष्ट्रपति से कथित तौर पर जो वाईडेन ( अगले साल होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी के संभावित उम्मीदवार) और उनकी बेटी हंटर वाइडेन  के  खिलाफ जांच करने के लिए कहा था

 शपथ की नैतिकता

राष्ट्रपति ट्रंप ने 2020 में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में यूक्रेन के हस्तक्षेप करने के लिए दबाव डालकर राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ समझौता किया है और अमेरिका के लोगों के प्रति ली गई शपथ को भी तोड़ा है



 मातृत्व लाभ के लिए लंबा इंतजार


 संदर्भ सारांश:

पीएम मोदी द्वारा 3 वर्ष पूर्व घोषित पीएम मातृ वंदना योजना की ने गर्भवती माताओं को जीवनदान दिया है

गुजरात के जनजाति जिले दाहोद में जागृति चंद्र का सर्वे
 सर विकार निष्कर्ष

हक प्राप्त करने के लिए माताओं का संघर्ष क्यों की योजना कागजी कार्यवाही की नौकरशाही चक्रव्यूह में उलझ जाती है

 प्रमुख तथ्य: पीएम मातृ वंदना योजना

* 2017 से लागू
* उद्देश्य:

काम करने वाली महिलाओं की मजदूरी के नुकसान की भरपाई करने के लिए मौजा देना और उनकी उचित आराम और पोषण  को सुनिश्चित करना

गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं के स्वास्थ्य में सुधार और नकदी प्रोत्साहन के माध्यम से अधीन पोषण के प्रभाव को कम करना


 योजना की मुख्य बातें:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा पीएम मातृ वंदना योजना को जनवरी 2017 में शुरू किया गया था इसके तहत गर्भवती ओं को पौष्टिक आहार के लिए सीधे उनके खाते में रुपए सहायता राशि भेजी जाएगी

इस योजना पर सीधे प्रधानमंत्री व राज्यों के मुख्यमंत्री निगरानी रखेंगे

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन दोनों परिजनों से पहली बार गर्भवती होने वाली ग्रामीण महिला के खाते में कुल ₹6400 व शहरी गर्भवती के खाते में कुल ₹6000 पहुंचेंगे

इस प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के द्वारा पात्र गर्भवती महिलाओं को पहली किस्त में ₹1000 गर्व के 150 दिनों के अंदर दूसरी किस्त में ₹2000 180 दिनों के अंदर व तीसरी किस्त में 2000 प्रसव के  बाद शिशु के प्रथम टीकाकरण चक्र पूरा होने पर मिलेंगे

इस पर योजनाओं का लाभ लेने के लिए अपनी नजदीक स्वास्थ्य केंद्र पर गर्भवती ओपो अपना आधार व खाता नंबर देना होगा

Source - the hindu


0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें

Thanks for comments